Saturday, June 20, 2009

दी फोर्थ एस्टेट हिन्दी - स्वागत स्तम्भ

ये बहुत ख़ुशी की बात है कि "आई आई टी मद्रास" की पत्रिका "दी फोर्थ एस्टेट" अब ब्लॉग के जरिये अपने पाठकों से संपर्क बना सकेगी। अब तक कई विषय जो पत्रिका के मुद्रित होने के पहले टिपण्णी का इन्तेजार करते हुए दम तोड़ देते थे, अब इस ब्लॉग में जगह पा सकेंगे। नया सम्पादकीय दल आगे के संस्करणों को और अधिक रोचक बनाने से प्रयास में लगा हुआ है। उम्मीद है कि इस बार भी हम पहले से बेहतर होते "दी फोर्थ एस्टेट" के हिंदी खण्ड को नई दिशा में सफल रहेंगे।
"दी फोर्थ एस्टेट" अपने अगले संस्करण के लिए रचनायें आमंत्रित करता है। रचनायों के प्रकाशन हेतु प्रस्तुतिकरण पर कोई बंधन नहीं है।

कोई भी बात हो, गुस्से के साथ हो,
झूझते जज्बात हों या प्यार की तकरार हो
कहानी या लेख हो या डेली सोप हो,
जीने की तलब हो या मौत ही बैखोफ हो
प्रोजेक्ट की बात हो या हॉस्टल की रात हो
राजनीति का खेल हो या कोर कोई बेमेल हो
शास्त्रा के शस्त्र हो या सारंग के रंग हों
हो शुरू ले के कलम छोड़ के सारे भरम
फोर्थ इस्टेट के नाम कर लेख अपने ताजे गरम

आप अपनी रचना झटपट tfe.hindi.iitm@gmail.com पर भेज दीजिये. यदि आपको लगता है "दी फोर्थ एस्टेट" में कुछ कमी है तो अपने सुझाव तुंरत मेल कर डालिए अभी सम्पादकीय दल में विस्तार की संभावनाएं हैं, आपके सुझाव आपको "दी फोर्थ एस्टेट" के हिस्सा बनाने की पहली कड़ी हैं।

आपके इन्तेजार में
आदित्य | अंकित | सत्येन्द्र

5 comments:

वन्दना अवस्थी दुबे said...

shubhkamnayen.swagat.

नारदमुनि said...

good luck.narayan narayan

दिल दुखता है... said...

आपका स्वागत है..... अच्छे लेखन के लिए शुभकामनाएं .....

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

राजेंद्र माहेश्वरी said...

हिंदी भाषा को इन्टरनेट जगत मे लोकप्रिय करने के लिए आपका साधुवाद |